Follow by Email

मंगलवार, 18 दिसंबर 2007

ऐसा क्यो

इसे अफसोसजनक ही कहेगे कि पेप्सी,कोक ,लिम्का जैसे पर्दाथ के खिलाफ to बहुत सा हो हल्ला मचाया जाता haiparantu,इससे भी अधिक जहरीला नशा शराब है जो कोई ऐसे वस्तु भी नही जिस के बिना मनुष्य जिंदा न रहे सके जिसका जहर हमारे समाज पर लगातार बढता जा रह है जिस के चलते लगातार समाज में किसी न किसी प्रकार के जुर्म को बढावा मिल रह है जिस के कारन सुखी परिवारों ,को भी बर्बादी कि रह से गुजरना पड़ जाता है उस जहरीले प्रदअर्थ के खिलाफ कोई शोर क्यो नही मचाता ?शोर मचने कि बजाये, इस जहर का इस्तेमाल कर कुछ मुनाफखोर लोगे स्वयम के चंद मुनाफे के लिए इस प्रकार कर रहे है कि इसे अब सोशल ड्रिंक बना दिया गया है जिससे कि काम भी जल्दी बनते है तथा इसे किसी के समक्ष प्रस्तुत करने में चाहे वह उपहार के रुप में ही क्यो न हो किसे को कोई हर्ज़ नही होता और हो भी क्यो आखिर यह भी तो काम कराने का एक नया तरीका है