Follow by Email

गुरुवार, 17 जनवरी 2008

कहा तक उचित ...............?

यह तो सब जानते है, कि देहली में कॉमन वेल्थ गेम के लिए बहुत कार्य किया जा रहा है जिन कार्यो में सीलिंग ,यमुना के खादर बांगर के स्थान पर नए निर्माण तथा और भी बहुत से कार्य शामिल है ,जिसके चलते बहुत से लोगो को भी भरी नुकसान उठाना पड़ा माना कि बाहर से लोग आयेगे तो सजावट भी जरुरी है पर इस का मतलब यह तो नही की अपने लोगो को नुकसान उठाना पड़े
यदि देखा जाये तो जब हमारे घर में महेमान आते है तो घर हम आप भी सजाते है , पर इस का मतलब यह तो नही कि घर को तोड़ कर नया घर बनाते है देहली का दिल कहे जाने वाले चांदनी चोव्क जैसी जगहें कि असली खूबसूरती को, जायके को वहा से हटाना कहा तक उचित है देअल्ही को बदल कर विदेशी तर्ज़ पर बसना कहा तक देअल्हिवासियो के हक में है ?

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें